Vatican Radio HIndi

संत दोमनिक के पर्व पर संत पापा का ट्वीट संदेश

In Church on August 8, 2017 at 3:19 pm

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 8 अगस्त 2017 (रेई): संत दोमनिक के पर्व दिवस के अवसर पर संत पापा फ्राँसिस ने अपने ट्वीट संदेश में ईश्वर के प्रति कृतज्ञता प्रकट की।

उन्होंने ट्वीट संदेश में लिखा, ″आज हम सुसमाचार की सेवा में संत दोमनिक के कार्यों के लिए ईश्वर को धन्यवाद दें जिसको उन्होंने अपने वचनों एवं जीवन के माध्यम से प्रकट किया है।″

संत दोमनिक का जन्म 1170 ई. को स्पेन में हुआ था। उनके माता-पिता स्पेन के एक कुलीन परिवार के सदस्य थे।

दोमनिक ने पलेनसिया में शिक्षा प्राप्त की तथा उनके अध्ययन के मुख्य विषय थे ईशशास्त्र एवं कला। वे एक आदर्श विद्यार्थी माने जाते थे। सन् 1191 ई. में जब स्पेन में आकाल पड़ा तो कई लोग बेघर एवं अकेले हो गये। कहा जाता है कि दोमनिक ने उनकी मदद करने हेतु अपना सब कुछ बेच दिया। दो बार उन्होंने दूसरों को मुक्त करने के लिए खुद को ही बेचने की कोशिश की।

सन् 1194 ई. में दोमनिक ने बेनेडिक्टाईन धर्मसमाज में प्रवेश किया।


(Usha Tirkey)

Advertisements

संत पापा ने पेरू की कलीसिया को संदेश भेजा

In Church on August 8, 2017 at 3:15 pm

पेरू, मंगलवार, 8 अगस्त 2017 (वीआर अंग्रेजी): संत पापा फ्राँसिस ने पेरू में अपनी प्रेरितिक यात्रा के पूर्व वहाँ की कलीसिया को एक संदेश भेजा। संत पापा का यह वीडियो संदेश लीमा महाधर्मप्रांत के वेबसाईट पर महाधर्माध्यक्ष जुवान लुईस सिप्रियानी थोरने द्वारा जारी किया गया है।

संदेश में संत पापा ने समृद्ध मानव संसाधन पर चर्चा की है जो दक्षिण अमरीकी राष्ट्र की कलीसिया के भूत एवं वर्तमान को चिह्नित करता है। उन्होंने कहा कि पेरू में कई महान संत हुए हैं जिन्होंने कलीसिया के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है तथा विभाजन को दूर कर एकता में आने हेतु मदद दी है।

संत पापा ने कहा, ″एक संत वह है जो हमेशा एकता बनाये रखने के लिए कार्य करता है ठीक उसी तरह जिस तरह येसु ने किया। एक संत निरंतर उनके पदचिन्हों पर चलने का प्रयास करता है।″

वीडियो संदेश में संत पापा ने पेरू वासियों को निमंत्रण दिया है कि वे इसी राह पर आगे बढ़ें तथा एकता हेतु कार्य करें, कड़वाहट एवं संदेह की अपेक्षा भविष्य को आशा के साथ देखें। एक ख्रीस्तीय भविष्य को हमेशा आशा के साथ देखता है क्योंकि वह उन बातों को पूरा होते हुए देखने की आशा करता है जिसकी प्रतिज्ञा प्रभु ने की है।

ज्ञात हो कि संत पापा फ्राँसिस 15 से 21 जनवरी 2018 को पेरू की प्रेरितिक यात्रा करेंगे जिसमें वे खासकर, प्योर्टो मॉल्डोनाडो, त्रुजिल्लो एवं पेरू की राजधानी लीमा का दौरा करेंगे।


(Usha Tirkey)

नाइजीरिया के गिरजाघर में हमले के शिकार लोगों के प्रति संत पापा की संवेदना

In Church on August 8, 2017 at 3:14 pm

नाइजीरिया, मंगलवार, 8 अगस्त 2017 (वीआर अंग्रेजी): संत पापा फ्राँसिस ने दक्षिण पूर्वी नाइजीरिया के एक गिरजाघर पर हुए हमले पर, वहाँ के विश्वासियों के प्रति सहानुभूति प्रकट करते हुए एक संदेश भेजा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ओनिशा शहर के निकट ओजुबुलु स्थित संत फिलिप काथलिक गिरजाघर में रविवार को ख्रीस्तयाग अर्पित कर विश्वासियों पर हमले में 11 लोगों की मौत हो गयी है तथा 18 लोग घायल हो गये हैं।

वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पीयेत्रो परोलिन ने संत पापा की ओर से प्रेषित एक तार संदेश में कहा कि ″मृत्यु एवं घायल होने की खबर सुन संत पापा अत्यन्त दुःखी हैं। वे निनवी धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष एवं विश्वासियों को अपनी हार्दिक संवेदना प्रकट करते हैं, विशेषकर, आक्रमण के शिकार लोगों के परिवार वालों के प्रति वे सहानुभूति प्रकट करते हैं।

अंमब्रा राज्य पुलिस कमिश्नर गरबा उमर ने कहा कि हिंसा नशीली पदार्थों की तस्करी से जुड़ी हो सकती है। पुलिस ने कहा कि शूटिंग ओज़ुबुलु से नाइजीरिया के बीच एक विवाद का परिणाम है जो विदेशों में रह रहे थे।

पल्ली पुरोहित जूड ओनुवासो ने कहा कि एक व्यक्ति ने गिरजाघर में प्रवेश किया और शूटिंग शुरू कर दी: “पहले दौर के बाद, दूसरा दौर था और मुझे लगता है कि दूसरे राउंड के दौरान लोगों को गोली मार दी गई थी। जब मैं वापस आया,  मुझे पता चला कि मेरे कुछ पुरोहित मारे गए थे, लगभग पांच या छह व्यक्तियों के शरीर से खून बह रहा था।″


(Usha Tirkey)

%d bloggers like this: