Vatican Radio HIndi

आज के युग के लिए मदर तेरेसा का संदेश

In Church on August 25, 2016 at 3:41 pm


मुम्बई, बृहस्पतिवार, 25 अगस्त 2016 (एशियान्यूज़): ″यदि मदर तेरेसा की ओर से आज के युग  के लिए कोई संदेश है तो वह है मानव व्यक्ति की प्रतिष्ठा एवं उनका मूल्य, उसकी भंगुरता के बावजूद। उन्होंने ईश्वर की महिमा को मृत्यु शय्या पर पड़े लोगों की आँखों में देखा।″यह बात गुवाहाटी के ससम्मान सेवा निवृत महाधर्माध्यक्ष तथा जोवाई में प्रेरितिक प्रशासक थोमस मेनामपरमबील ने कही।

महाधर्माध्यक्ष ने कोलकाता की मदर तेरेसा से उस समय मुलाकात की थी जब वे एक गुरूकुल छात्र थे जिसने उनके जीवन में गहरी छाप छोड़ी है। मदर तेरेसा ने जिस तरह सबसे कमजोर लोगों की आवश्यकताओं को पहचाना तथा उनमें उन्होंने ईश्वर की महिमा देखी यह भारत में उनकी प्रेरिताई को प्रेरणा प्रदान करता है।

धर्माध्यक्ष के अनुसार मदर तेरेसा ने अदम्य साहस का परिचय दिया है जिसे हम सभी को प्रेरणा लेना चाहिए।


(Usha Tirkey)

वाटिकन ने भूकम्प पीड़ितों की मदद हेतु अग्निशमक भेजा

In Church on August 25, 2016 at 3:37 pm

 इटली, बृहस्पतिवार, 25 अगस्त 2016 (वीआर सेदोक): संत पापा फ्राँसिस ने मध्य इटली के अमात्रीचे शहर में 24 अगस्त को आये जोरदार भूकम्प से पीड़ित लोगों की मदद हेतु उनके प्रति सहानुभूति के ठोस चिन्ह के रूप में वाटिकन से छः अग्निशमकों को अमात्रीचे भेजा। भूकम्प के कारण यह शहर पूरी तरह ध्वस्त हो चुका है।

वाटिकन प्रेस कार्यालय के महानिदेशक ग्रेक बर्क ने कहा कि ये छः अग्निशमक इटली के नागरिक सुरक्षा कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर राहत कार्य करेंगे जो मलबे के नीचे अभी भी जीवित बचे लोगों और पहले से बचाये गये लोगों की सहायता कर रहे हैं।

सी. एन. एन के अनुसार इटली के नागरिक सुरक्षा विभाग ने बतलाया कि शहर में आये इस ज़ोरदार भूकंप की वजह से मरने वालों की संख्या अब 250 हो गयी है जबकि 368 लोग घायल हुए हैं। उनका अनुमान है कि मरने वालों की संख्या में वृद्धि हो सकती है। मलबे में दबे लोगों को बाहर निकालने का काम जारी है तथा जीवित बचे लोगों के लिए भोजन, आश्रय एवं दवा आदि के प्रबंध की भी कोशिश की जा रही है।

भूकंप स्थानीय समयानुसार मंगलवार तड़के 3 बजकर 36 मिनट पर आया था। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 6.2 मापी गई थी।


(Usha Tirkey)

वाटिकन ने ‘सामूहिक विनाश के हथियार’ की परिभाषा के विस्तार की मांग की

In Church on August 25, 2016 at 3:33 pm

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 25 अगस्त 2016 (वीआर सेदोक): वाटिकन ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की है कि वे युद्ध अपराधों और मानवता के खिलाफ अपराधों के लिए प्रयुक्त अत्यंत शक्तिशाली पारंपरिक हथियारों को शामिल करने के लिए ‘सामूहिक विनाश के हथियार’ की परिभाषा का विस्तार करे।

अमरीका के लिए वाटिकन पर्यवेक्षक महाधर्माध्यक्ष बेर्नादेतो औजा ने कहा, ″पारंम्परिक हथियार कम से कम पारम्परिक होते जा रहे हैं जब तकनीकी प्रगति में विकास की नष्ट करने की शक्ति का स्तर सामूहिक विनाश के हथियार के स्तर तक पहुँच चुका है।″

वाटिकन पर्यवेक्षक मंगलवार को सामूहिक विनाश के हथियारों के प्रसार पर सुरक्षा समिति के एक खुले विवाद पर बोल रहे थे।

उन्होंने कहा कि यही कारण है कि  संत पापा की सिफारिश है कि सामूहिक विनाश के हथियारों पर बहस को, परमाणु, रासायनिक, जैविक एवं  रेडियोलॉजिकल जैसे पारस्परिक श्रेणी के हथियारों के ऊपर जाना चाहिए ताकि शक्तिशाली पारंपरिक हथियारों को शामिल किया जा सके।

उन्होंने कहा, ″सैन्य बल, विद्रोही, आतंकवादी और चरमपंथी समूह अधिकतर शक्तिशाली पारंपरिक हथियारों का प्रयाग करते हैं तथा नागरिक प्रतिरक्षा, भेदभाव और समानता के प्रति कम ध्यान देते हैं।

महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि हज़ारों शरणार्थियों एवं विस्थापित लोगों ने इस सभा को एक महत्वपूर्ण संदेश भेजा है कि वे या तो भागना है अथवा मर जाना है क्योंकि उनका शहर एवं समुदाय पूरी तरह नष्ट हो चुका है परमाणु, रासायनिक या जैविक हथियारों द्वारा नहीं किन्तु शक्तिशाली पारम्परिक हथियारों द्वारा।

उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि सामूहिक विनाश के हथियारों पर प्रतिबंध लगाने की दिशा में हर कदम एक बेहतर दुनिया प्राप्त करने की दिशा में एक बड़ा कदम है।


(Usha Tirkey)

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 77 other followers

%d bloggers like this: