Vatican Radio HIndi

सिरिया, बच्चों के लिये सन्त पापा फ्राँसिस की अपील

In Church on May 2, 2016 at 3:34 pm

वाटिकन सिटी, सोमवार, 2 मई 2016 (सेदोक): सन्त पापा फ्राँसिस ने रविवार को एक बार फिर सिरिया में शांति की अपील को दुहराया तथा संघर्ष में लिप्त सभी दलों से आग्रह किया कि वे वैमनस्यता को समाप्त कर वार्ताओं के लिये तैयार होवें।

सन्त पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में देश विदेश से एकत्र तीर्थयात्रियों के साथ स्वर्ग की रानी प्रार्थना करने के उपरान्त सन्त पापा फ्राँसिस ने कहा कि वे सिरिया में जारी हिंसा के चक्र से अत्यधिक दुःखी है जो, उन्होंने कहा, “राष्ट्र की दयनीय मानवतावादी स्थिति को और अधिक गम्भीर बना रही है।”

सिरिया के आलेप्पो नगर का उन्होंने विशेष ज़िक्र किया जहाँ प्रतिदिन निर्दोष लोगों की जानें जा रही हैं जिनमें अनेकानेक बच्चे, वृद्ध एवं बीमार लोग शामिल हैं।

इसी अवसर पर सन्त पापा फ्राँसिस ने बच्चों पर होनेवाले सब प्रकार के दुराचारों के विरुद्ध संघर्षरत इटली के “मेत्तेर” संगठन को प्रोत्साहन प्रदान किया। उन्होंने कहा, “इस त्रासदी का अन्त होना चाहिये। बच्चों के विरुद्ध हमें किसी प्रकार के दुराचार को सहन नहीं करना चाहिये। हमें बच्चों की हर प्रकार से सुरक्षा करनी होगी तथा उन लोगों को दण्डित करना होगा जो बच्चों के विरुद्ध दुराचार करते हैं।”

रविवार को ही, अन्तरराष्ट्रीय श्रम दिवस के अवसर पर, सन्त पापा ने समस्त विश्व के श्रमिकों एवं बेरोज़गारों का स्मरण किया तथा कहा कि सभी को प्रतिष्ठापूर्ण जीवन का अधिकार है। करुणा को समर्पित जयन्ती के उपलक्ष्य में रोम में सोमवार से “धारणीय विकास एवं सर्वाधिक कमज़ोर नौकरियाँ” शीर्षक से आरम्भ हो रहे अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन की चर्चा कर सन्त पापा ने इसकी सफलता हेतु प्रार्थना की।

उन्होंने कहा, “मेरी आशा है कि यह सम्मेलन अधिकारियों, राजनीतिज्ञों, व्यापार एवं वित्तीय जगत तथा नागर समाज में चेतना जाग्रत करेगा ताकि श्रम एवं पर्यावरणीय विधान का सम्मान करते हुए मानव मर्यादा को सुरक्षित रखा जा सके।”


(Juliet Genevive Christopher)

पूर्वी रीति की कलीसियाओं को सन्त पापा ने भेजी पास्का की शुभकामनाएँ

In Church on May 2, 2016 at 3:33 pm

वाटिकन सिटी, सोमवार, 2 मई 2016 (सेदोक): सन्त पापा फ्राँसिस ने पूर्वी रीति की कलीसियाओं के प्रति पास्का की शुभकामनाएँ अर्पित की जिन्होंने, जूलियन पंचाग के अनुसार, रविवार को येसु मसीह के पुनरुत्थान का पर्व मनाया। उन्होंने कहा, “पुनर्जीवित येसु ख्रीस्त प्रकाश एवं शांति का वरदान सब तक प्रसारित करें।”

रविवार के ट्वीट सन्देश में सन्त पापा ने लिखाः “आज पवित्र पास्का मनाने वाली पूर्वी रीति की कलीसियाओं के विश्वासियों के प्रति मैं हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित करता हूँ।”

इसी बीच, यूक्रेन के मिन्स्क शहर में पूर्वी रीति के ऑरथोडोक्स विश्वासियों के पास्का महापर्व के अवसर पर हुई वार्ताओं में इस बात पर सहमति व्यक्त की गई कि यूक्रेनी सरकारी सेना एवं रूस द्वारा समर्थित अलगाववादी गुट, दक्षिण पूर्वी यूक्रेन में, युद्ध विराम का पालन करेंगे जहाँ ऑर्थोडोक्स ख्रीस्तीय तथा ग्रीक काथलिक दोनों ही पास्का महापर्व मनाते हैं।

पूर्वी रीति की कलीसियाओं के शीर्ष कुस्तुनतुनिया के प्राधिधर्माध्यक्ष बारथोलोम प्रथम ने पास्का के उपलक्ष्य में एक सन्देश जारी कर कहा, “मैं सभी विश्वासियों से अपील करता हूँ कि समसामयिक विश्व में व्याप्त हिंसा, आतंकवाद, युद्ध एवं क्रूरता के बीच वे पड़ोसी प्रेम का साक्ष्य प्रस्तुत करें।”

इटली और माल्टा के ऑरथोडोक्स ख्रीस्तीय धर्माधिपति प्राधिधर्माध्यक्ष जेनासियुस ने भी सभी से आग्रह किया है कि वे अपने हृदयों को शुद्ध कर प्रभु को अपने बीच आने का मौका दें। सर्बियाई प्राधिधर्माध्यक्ष इरिनेज़ ने पास्का सन्देश जारी कर विश्वासियों से आग्रह किया कि वे एक दूसरे को क्षमा कर दें, “अन्यों की न्याय न करें तथा सांसारिक विचारधाराओं, घृणा और हिंसा के बावजूद  विश्व से भय न खायें अपितु प्रभु येसु ख्रीस्त में अपने विश्वास को सुदृढ़ करते हुए सुसमाचारी प्रेम को लोगों में प्रसारित करें।”


(Juliet Genevive Christopher)

रायगंज के धर्माध्यक्ष डिसूज़ा नहीं रहे

In Church on May 2, 2016 at 3:32 pm

वाटिकन सिटी, सोमवार, 2 मई 2016 (सेदोक): रायगंज के काथलिक धर्माध्यक्ष येसु धर्मसमाजी आल्फोन्सुस डिसूज़ा का शनिवार, 30 अप्रैल को हृदयाघात से निधन हो गया। वे 77 वर्ष के थे।

धर्माध्यक्ष आल्फोनसुस डिसूज़ा का जन्म 04 जुलाई, सन् 1939 ई. को कर्नाटक राज्य के उड्डुप्पी ज़िले के काटिंगेरे में हुआ था। 13 जुलाई, सन् 1978 ई. को आप पुरोहित अभिषिक्त किये गये थे तथा 26 जनवरी, 1987 को रायगंज के धर्माध्यक्ष नियुक्त किये गये थे।

पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजडपुर स्थित रायगंज के धर्माध्यक्ष रूप में 17 अप्रैल, सन् 1987 को आपका धर्माध्यक्षीय अभिषेक सम्पन्न हुआ था। धर्माध्यक्ष नियुक्त किये जाने से पूर्व फादर आल्फोनसुस डिसूज़ा कोलकाता येसुधर्मसमाजी प्रान्तीय अध्यक्ष पद पर सेवारत थे।

पश्चिम बंगाल के रायगंज धर्मप्रान्त की स्थापना सन् 1978 ई. में हुई थी।


(Juliet Genevive Christopher)

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 73 other followers

%d bloggers like this: