Vatican Radio HIndi

येसु हमारे हृदय को नया बना देते हैं

In Church on December 5, 2016 at 2:39 pm


वाटिकन सिटी, सोमवार, 5 दिसम्बर 2016 (वीआर सेदोक): हम येसु की ओर मुढ़ें, अपने आपको उनके लिए अर्पित करें ताकि वे हमें नवीकृत कर हमारे पापों से मुक्त कर दें। यह बात संत पापा फ्राँसिस ने सोमवार 5 दिसम्बर को वाटिकन स्थित संत मर्था के प्रार्थनालय में ख्रीस्तयाग प्रवचन में कही।

″मरूस्थल में फूल खिलेंगे, अंधे देखने लगेंगे तथा बहरे सुन सकेंगे।″ संत पापा ने नबी इसायस के ग्रंथ से लिए गये पाठ पर चिंतन करते हुए नवीकृत किये जाने पर प्रकाश डाला तथा कहा कि सब कुछ बदल जायेगा, कुरूप सुन्दर हो जायेगा और बुराई अच्छाई में बदल जायेगी। ऐसे ही बेहतर की आशा ईस्राएल की जनता मसीह से कर रही थी।

संत पापा ने इस बात पर गौर किया कि येसु द्वारा लाया गया परिवर्तन आसान नहीं था। लोगों ने येसु का अनुसरण इसलिए नहीं किया कि वे प्रासंगिक थे किन्तु इसलिए क्योंकि उनका संदेश उन्हें प्रभावित किया। लोगों ने उनका चमत्कार देखा और तब वे उनका अनुसरण करने लगे।

संत पापा ने इस बात को भी स्पष्ट किया कि येसु ने जो कार्य किया वह न केवल बुराई पर अच्छा द्वारा परिवर्तन का कार्य था किन्तु उन्होंने व्यक्ति में एक पूर्ण परिवर्तन लाया। यह बाह्य न होकर एक आंतरिक परिवर्तन था। पुनः सृष्ट किया जाना था। ईश्वर ने दुनिया की सृष्टि की किन्तु मनुष्य पाप में गिर गया और अंततः येसु ने आकर सृष्टि को पुनः नया रूप दिया। संत पापा ने सुसमाचार पाठ को प्रस्तुत करते हुए कहा कि यह पाठ इसी बात को प्रकट करता है। येसु ने किस तरह चंगाई द्वारा व्यक्ति को नया बनाया? चंगा करने के पूर्व येसु ने उसके सारे पाप क्षमा कर दिये। इस प्रकार चंगा किये जाने के बाद वह व्यक्ति पूरी तरह नया बन गया जो कुछ लोगों के लिए ठोकर का कारण बन गया।

संत पापा ने कहा इस परिवर्तन को नहीं समझ पाने के कारण संहिता के विद्वान वाद-विवाद करने लगे क्योंकि वे येसु के अधिकार को स्वीकार नहीं कर सके थे। येसु आत्मा की चंगाई द्वारा ख्रीस्त जयन्ती हेतु तैयारी में सहायता करते हैं। जिसके लिए विश्वास की आवश्यकता है। संत पापा ने कहा कि ‘मैं यह नहीं कर सकता हूँ’ कहने के प्रलोभन से बचें एवं परिवर्तित किये जाने एवं येसु द्वारा पुनः सृष्ट किये जाने हेतु अपने को अर्पित करें।″

उन्होंने कहा, ″हम सभी पापी हैं, हम अपने पापों के मूल कारण को जानने का प्रयास करें और येसु वहाँ आकर हमें पुनः सृष्ट करेंगे तब एक बेहतर जड़ बढ़ेगा। वह न्याय के कार्यों से बढ़ेगा और हम नये व्यक्ति बन जायेंगे।″

संत पापा ने पूर्ण पश्चाताप करने की सलाह देते हुए कहा कि यदि हम अपने को पापी स्वीकार करते और पापस्वीकार करने के बाद भी अपने पुराने रास्ते पर बने रहते हैं तो हम प्रभु द्वारा नवीकृत नहीं किये जायेंगे अतः हमें पूर्ण पश्चाताप करते हुए सच्चे विश्वास की याचना करना है।

उन्होंने कहा कि हम गंभीर पापों को छिपाने का प्रयास करते हैं उदाहरण के लिए जब हम ईर्ष्या को कम दिखाने का प्रयास करते हैं तो यह हानिकारक है क्योंकि यह वास्तव में सांप के विष की तरह है जो दूसरों को नष्ट करता है।

संत पापा ने प्रार्थना की कि प्रभु हमारे पापों को धो दे ताकि हम सचमुच नवीन बन सकें। उन्होंने सलाह दी कि हम अपने पापों के मूल में जाएँ उसे प्रभु को चढ़ायें क्योंकि वे हमें विश्वास में आगे बढ़ने हेतु बल प्रदान करेंगे।


(Usha Tirkey)

सन्त पापा ने स्वीकार किया नई मोरोक्को राजदूत का प्रत्यय पत्र

In Church on December 5, 2016 at 2:37 pm

 


वाटिकन सिटी, सोमवार, 5 दिसम्बर 2016 (वीआर सेदोक): सन्त पापा फ्राँसिस ने, सोमवार को, परमधर्मपीठ के लिये नई मोरक्को राजदूत मोस्ताफा अर्रिफी का प्रत्यय पत्र स्वीकार किया।

नवनियुक्त राजदूत मोस्ताफा अर्रिफी का जन्म 21 जनवरी 1963 में हुआ था। वे विवाहित हैं और दो बच्चों के पिता हैं। उन्होंने मोहम्मद विश्वविद्यालय से भाषा एवं साहित्य की उपाधि प्राप्त की है।

उन्होंने सन् 1993 से 2000 के बीच कर अधिकारी के रूप में अपने कार्य की शुरू की तथा 2001 से 2005 के बीच अर्थव्यवस्था और वित्त मंत्रालय में जनसम्पर्क विभाग में अपनी सेवा दी। 2006 से 2009 तक अर्थव्यवस्था और वित्त मंत्रालय के निदेशालय के स्टाफ रहे। 2009 से 2011 तक उन्होंने अर्थव्यवस्था और वित्त मंत्री के मंत्रिमंडल में आर्थिक मुद्दों के निदेशक के रूप में कार्यभार सँभाला। 2012 से 2014 तक अर्थव्यवस्था और वित्त मंत्रालय के महासचिव रहे। 2014 से वे विदेश मंत्री और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के कार्यालय में सलाहकार नियुक्त किये गये थे।

मातृभाषा अमाजिह के अलावा वे अरबी, फारसी, अंग्रजी तथा स्पानी भाषा के ज्ञाता हैं।


(Usha Tirkey)

12 दिसम्बर को माता मरियम के सम्मान में ख्रीस्तयाग

In Church on December 5, 2016 at 2:34 pm


वाटिकन सिटी, सोमवार, 5 दिसम्बर 2016 (वीआर सेदोक): आगमन के तीसरे सप्ताह 12 दिसम्बर को संध्या 6 बजे संत पेत्रुस महागिरजाघर में, संत पापा फ्राँसिस ग्वादालुपे की धन्य कुँवारी मरियम के पर्व दिवस पर उनके सम्मान में समारोही ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान करेंगे।

संत पापा फ्राँसिस जो ग्वादालुपे की माता मरियम के प्रति विशेष भक्ति रखते हैं, 2015 में यह घोषित की थी कि वे इस समारोह का अनुष्ठान करेंगे तथा लातीनी अमरीका के लिए गठित परमधर्मपीठीय आयोग से, संत पापा के साथ समारोह के अनुष्ठान के आयोजन हेतु आग्रह किया था।

संत पापा के धर्मविधि अनुष्ठानों की व्यवस्था करने वाली समिति के अध्यक्ष मोनसिन्योर ग्वीदो मरिनी ने इस बात को पुनः स्मरण दिलाया कि इस समारोह में भाग लेने के इच्छुक कार्डिनल, महाधर्माध्यक्ष, धर्माध्यक्ष एवं पुरोहित मिस्सा पूजा हेतु आवश्यक परिधान के साथ समय पर उपस्थित हों।


(Usha Tirkey)

%d bloggers like this: