Vatican Radio HIndi

बंगाली भाषा में संत पापा ने प्रेरितिक पत्र का अनुवाद

In Church on July 4, 2015 at 3:29 pm

ढाका, शनिवार, 4 जुलाई 2015 (एशियान्यूज़)꞉ बंगलादेश के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष पैट्रिक डीरोज़ारियो ने क्षेत्रीय भाषा बँगाली में एक प्रेरितिक पत्र जारी कर सृष्टि की देखभाल पर आधारित संत पापा फ्राँसिस के विश्व प्रेरितिक पत्र ‘लाओदातो सी’  का संक्षिप्त स्पष्टीकरण दिया है तथा उसे सभी पल्लियों में वितरण करने का आदेश दिया है।

संत पापा के प्रेरितिक पत्र ‘लाओदातो सी’ का संक्षिप्त स्पष्टीकरण सभी लोगों तक पहुँचाने के प्रयास का उद्देश्य है कि बंगलादेश की कलीसिया संत पापा की अपील को सुन सकें तथा अपने जीवन शैली में आवश्यक परिवर्तन लाये एवं उत्पादन एवं उपभोग जो धरती माता के संसाधन द्वारा की जाती है उस पर सावधानी करें।

अपने प्रेरितिक पत्र में महाधर्माध्यक्ष ने विश्वासियों से अपील की है कि वे संत पापा ने निर्देश का सही तरीके से पालन करें। उन्होंने पुरोहितों से भी आग्रह किया है कि वे अधिक से अधिक विश्वासियों को संत पापा के प्रेरितिक पत्र से अवगत करायें।

उन्होंने पत्र में लिखा, ″आइये हम ईश्वर की सृष्टि की देखभाल करने के लिए प्रण करें। हम उन सभी कार्यों को बंद करें जो पर्यावरण एवं ईश्वर की सृष्टि को हानि पहुँचाता है।

उन्होंने विश्वासियों से अपील की है कि वे प्रार्थना करें ताकि संत पापा का संदेश साकार हो तथा सामाजिक न्याय का विस्तार हो।

इस उद्देश्य की सफलता हेतु करीतास बंगलादेश के महानिर्देशक ने सलाह दी कि पौधे लगाये जाए तथा पेड़ों की रक्षा की जाए, पानी, बिजली एवं इंधन के फिजुल खर्च को कम किया जाए।

 

 


(Usha Tirkey)

युवाओं ने मनाया तेज़े की शतवर्षीय जयन्ती

In Church on July 4, 2015 at 3:27 pm

तेजे, शनिवार, 4 जुलाई 2015 (एशियान्यूज़)꞉ तेज़े अंदोलन की शतवर्षीय जयन्ती तथा तेज़े प्रांत में इसकी स्थापना की 75 वर्षीय जयन्ती एवं इसके संस्थापक ब्रादर रोजर की मृत्यु की 10 वीँ वर्षगाँठ पर सदस्यों ने इसे अपने संस्थापक द्वारा प्राप्त आध्यात्मिक विरासत पर चिंतन करने एवं संस्था में पवित्र आत्मा के कार्यों का अवलोकन करने का बहुमूल्य अवसर माना। उन्होंने इस विरासत को आज के युग में किस प्रकार सुरक्षित रखा जाए उसपर विचार करने का सुन्दर अवसर कहा।

तेज़े की वेबराइट अनुसार शतवर्षीय जयन्ती के अवसर पर विश्व के विभिन्न स्थलों में प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया है जहाँ युवा प्रार्थना में भाग ले रहे हैं तथा अपने संस्थापक ब्रादर रोजर का अनुसरण करते हुए ईश्वर से जुड़ने तथा लोगों के प्रति एकात्मता प्रदर्शित कर रहे हैं।

सन् 1976 तथा सन् 1997 ई. में ब्रादर रोजर की यात्रा का स्मरण करते हुए युवाओं ने कलकत्ता स्थित मिशनरीस ऑफ चैरिटी के मूल मठ में प्रार्थना में भाग लिया।

फिलीपीन्स, इंडोनेशिया एवं जापान के कई जगहों में भी युवाओं ने प्रार्थना सभी का आयोजन किया।

एशियान्यूज़ के अनुसार विभिन्न कलीसियाओं के बच्चे, युवा तथा बुजुर्ग ने तेजे की प्रार्थना सभाओं में खुलकर भाग ले रहे हैं तथा विश्वव्यापी कलीसिया का अनुभव प्राप्त कर रहे हैं जैसा कि ब्रादर रोजर कहा करते थे, ″ईश्वर  हृदय में कलीसिया एक ही है और इसे विभाजित नहीं किया जा सकता।″

 

 


(Usha Tirkey)

दक्षिण अमरीका में सन्त पापा फ्राँसिस की यात्रा विषयक पाँच तथ्य

In Church on July 4, 2015 at 3:26 pm

लातीनी अमरीका 42 करोड़ 50 लाख अर्थात् विश्व के लगभग 40 प्रतिशत काथलिक धर्मानुयायियों का घर है। इसके अलावा, अधिकांश दक्षिणी अमरीकी देशों में कम से कम दस वयस्कों में से सात वयस्क स्वतः को काथलिक घोषित करते हैं…..

वाटिकन सिटी, शनिवार, 4 जुलाई 2015 (वाटिकन.वा): सन्त पापा फ्राँसिस रविवार को एक्वाडोर, बोलिविया और पारागुए की प्रेरितिक यात्रा के लिये रोम से रवाना हो रहे हैं।

दक्षिण अमरीका के लोगों के लिये यह यात्रा खास मायने रखती है क्योंकि होर्हे मारियो बेरगोलियो अर्थात् सन्त पापा फ्राँसिस आर्जेन्टीना के मूल निवासी है तथा सार्वभौमिक काथलिक कलीसिया के इतिहास में पहले लातीनी अमरीकी परमाध्यक्ष हैं। बेनेडिक्ट 16 वें के पदत्याग के उपरान्त सन् 2013 में काथलिक कलीसिया का नेतृत्व करने के लिये नियुक्त, सन्त पापा फ्राँसिस की, स्पानी भाषा-भाषी दक्षिण अमरीका में यह प्रथम आधिकारिक यात्रा होगी।

सन्त पापा फ्राँसिस की एक्वाडोर, बोलिविया और पारागुए की प्रेरितिक यात्रा के पूर्व इन पाँच तथ्यों पर ध्यान देना हितकर होगाः

प्रथमः लातीनी अमरीका 42 करोड़ 50 लाख अर्थात् विश्व के लगभग 40 प्रतिशत काथलिक धर्मानुयायियों का घर है। इसके अलावा, अधिकांश दक्षिणी अमरीकी देशों में कम से कम दस वयस्कों में से सात वयस्क स्वतः को काथलिक घोषित करते हैं। सच तो यह है कि केवल एक स्पानी भाषी दक्षिणी अमरीकी देश ऊरुगुए में काथलिकों की संख्या वयस्क जनसंख्या का केवल 42 प्रतिशत है।

द्वितीयः दक्षिण अमरीका के लोगों ने, नवीन विश्व से चुने गये काथलिक कलीसिया के प्रथम परमाध्यक्ष, सन्त पापा फ्राँसिस का व्यापक स्तर पर स्वागत किया है। पियु अनुसन्धान केन्द्र द्वारा किये सर्वे के अनुसार दक्षिण अमरीका के सभी देशों के लगभग दो तिहाई तथा आर्जेन्टीना के 91% लोगों ने सन्त पापा फ्राँसिस के पक्ष में अनुकूल विचार प्रकट किये हैं। इसके अतिरिक्त, दक्षिण अमरीकी देशों के अधिकांश काथलिक धर्मानुयायियों का मानना है कि सन्त पापा फ्राँसिस काथलिक कलीसिया में परिवर्तन की महाशक्ति का प्रतिनिधित्व करते हैं।

तृतीयः सन्त पापा फ्राँसिस के समर्थन में अपनी आवाज़ उठाने वालों के विपरीत जिन लोगों ने काथलिक कलीसिया का परित्याग कर दिया है वे उनके प्रति उदासीन हैं, उदाहरणार्थ, बोलिविया के पूर्व काथलिकों में केवल 28% तथा वेनेज़ूएला के पूर्व काथलिकों में केवल 32% ही सन्त पापा फ्राँसिस के विचारों का समर्थन करते हैं (प्यूफोरम.ऑर्ग )।

चतुर्थः दक्षिण अमरीका में अपनी सात दिवसीय यात्रा के दौरान सन्त पापा फ्राँसिस अवश्य ही सामाजिक असमानता पर अपने विचार प्रकट करेंगे। इस दृष्टि से हाल ही में पियु अनुसन्धान केन्द्र द्वारा किये सर्वे के अनुसार जिन तीन लातीनी अमरीका के देशों की सन्त पापा यात्रा कर रहे हैं वहाँ के कुछ निवासी ही सन्त पापा की इस चिन्ता में सहभागी हैं। उदाहरणार्थ, पारागुए की तीन- चौथाई जनता मानती है कि धनी एवं निर्धन वर्ग के बीच बनी खाई वहाँ की मुख्य समस्या है जबकि बोलिविया और एक्वाडोर के 45% लोग ही इसे मुख्य समस्या मानते हैं। इसके अलावा,  अधिकांश दक्षिणी अमरीकी देशों में लोगों का यह ख्याल है कि मुक्त बाज़ार अर्थव्यवस्था के तहत लोगों का जीवन बेहतर होता है।

पंचमः एक्वाडोर, बोलिविया एवं पारागुए की सात दिवसीय यात्रा के दौरान सन्त पापा फ्राँसिस अपनी मातृभूमि आर्जेन्टीना नहीं जायेंगे। रिपोर्टों के अनुसार, आर्जेन्टीना में राष्ट्रपति चुनाव होनेवाले हैं तथा सन्त पापा नहीं चाहते हैं कि देश में उनकी उपस्थिति का राजनीतिकरण किया जाये। रविवार, 5 जुलाई को शुरु होनेवाली सन्त पापा फ्राँसिस की सात दिवसीय दक्षिण अमरीकी यात्रा इटली से बाहर उनकी 9 वीं विदेश यात्रा है। उनसे पूर्व सन् 1980 में सन्त पापा जॉन पौल द्वितीय ने एक्वाडोर, बोलिविया और पारागुए की यात्राएँ की थी।


(Juliet Genevive Christopher)

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 69 other followers

%d bloggers like this: