Vatican Radio HIndi

Archive for March 14th, 2012|Daily archive page

येरूसालेम तक ग्लोबल मार्च में भारत भी शामिल

In Church, Peace & Justice on March 14, 2012 at 10:50 am

जूलयट जेनेविव क्रिस्टफर

नई दिल्ली, 13 मार्च सन् 2012 (ऊका): फिलीस्तीनियों के प्रति एकात्मता व्यक्त करते हुए भारत भी अन्य                         दक्षिण एशियाई देशों के साथ येरूसालेम तक की विश्वव्यापी तीर्थयात्रा में शामिल हो गया है।

“येरूसालेम तक ग्लोबल मार्च” शीर्षक से आयोजित तीर्थयात्रा का उदघाटन, भारतीय सांसद रामविलास पासवान द्वारा, नौ मार्च को नई दिल्ली में किया गया था। पासवान ने संसद में फिलीस्तीनियों के मुद्दे को उठाने का आश्वासन दिया है।

54 तीर्थयात्रियों के प्रतिनिधिमण्डल का अभिवादन सांसद मणि शंकर अय्यर तथा नई दिल्ली स्थित फिलीस्तीनी राजदूतावास के वरिष्ठ अधिकारी ज़ुहैर हमदल्लाह ने भी किया।

“येरूसालेम तक ग्लोबल मार्च” की भारतीय राष्ट्रीय समिति ने एक वकतव्य जारी कर कहा, ” सत्याग्रहों की परम्परा को जारी रख, हम अहिंसा का पालन करते हुए समर्पण के साथ फिलीस्तीन को स्वतंत्र करने हेतु संघर्षरत हैं।”

10 मार्च को भारतीय प्रतिनिधिमणडल पाकिस्तान पहुँचा जहाँ इण्डोनेशिया एवं मलेशिया के प्रतिनिधि भी इस मार्च में शामिल हुए।

मिस्र, लेबनान, सिरिया एवं जॉडन को पार करते हुए 30 मार्च को एशियाई प्रतिनिधि जैरूसालेम पहुँचेंगे।

ग़ौरतलब है कि 30 मार्च फिलीस्तीनी दिवस रूप में मनाया जाता है। इसी दिन सन् 1967 ई. को इसराएल ने फिलीस्तीनियों के शान्ति प्रदर्शन पर हमला कर दिया था जिसमें छः प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई थी तथा 96 घायल हो गये थे।

ख्रीस्तीय एवं इस्लाम धर्मानुयायियों के कब्रस्तानों में तोड़-फोड़

In Church, Human Rights on March 14, 2012 at 10:48 am

जूलयट जेनेविव क्रिस्टफर
गोआ, 13 मार्च सन् 2012 (ऊका): दक्षिण गोआ स्थित कुरचोरम में कुछ अज्ञात तत्वों ने ख्रीस्तीय एवं मुसलमान कब्रस्तानों पर तोड़ फोड़ मचाई तथा कब्रों को अपवित्र करने का दुस्साहस किया।

दक्षिण गोआ के पुलिस अधिकारी अरबिन्द गावस ने बताया कि किरचोरम के पल्ली पुरोहित ने इस कुकृत्य की शिकायत पुलिस स्टेशन में दर्ज़ कर दी है जिसपर पुलिस जाँच पड़ताल कर रही है।

जाँच पड़ताल से पता चला है कि शनिवार एवं रविवार की रात के बीच गार्डियन एन्जल चर्च के कब्रस्तान पर 40 कब्रों में जबकि मुसलमानों के कब्रस्तान पर 67 कब्रों में तोड़ फोड़ की गई।

गावस ने कहा, “हमने जूतों के निशान उठा लिये हैं जिससे अपराधियों का पता लगाने में मदद मिलेगी।”

इसके अतिरिक्त, गोआ सरकार ने अपराधियों का पता बताने वाले के लिये 50,000 रुपये इनाम की भी घोषणा की है।

230,000 से अधिक मछुआरों ने सुरक्षा की मांग करते हुए किया विरोध प्रदर्शन

In Church, Human Rights on March 14, 2012 at 10:47 am

जूलयट जेनेविव क्रिस्टफर
कोची, 13 मार्च सन् 2012 (एशियान्यूज़): केरल के तिरुवनन्ततपुरम में, सोमवार को, लगभग दो लाख तीस हज़ार ख्रीस्तीय, मुसलमान एवं हिन्दु मछुआरों ने सरकारी भवनों के सामने एकत्र होकर विरोध प्रदर्शन किया तथा मछुआरों के लिये सुरक्षा की मांग की।

क्वीलोन के काथलिक पुरोहित फादर स्टीवन कुल्लाकायाथिल ने कहा, “यह एक विशेष घटना है।”
उन्होंने कहा, “हमारी आशा है कि सरकार हमारी मांगों को पूरा करेगी। विगत सप्ताहों में कई दुर्घटनाएँ हुई जिनसे समुद्र में काम करनेवाले मछुआरे प्रभावित हुए हैं।”

सर्वाधिक दुर्भाग्यपूर्ण घटना 15 फरवरी को हुई जब इताली तेलवाहक पोत एनरीका लेक्सी के दो सुरक्षा गार्डों ने मछुआरों को समुद्री डाकू समझकर उनपर गोलियाँ चला दी। इसमें मछुआरे जेलेस्टीन तथा आजेश बिंकी की मौत हो गई थी।

सोमवार के विरोध प्रदर्शन का आयोजन केरल फिशरीज़ जोईन्ट एक्शन काऊन्सल द्वारा किया गया था। एक याचिका अर्पित कर मछुआरों ने नौ सेना, समुद्री तट के सुरक्षा गार्ड़ों तथा पोत परिवहन मंत्रालय से मछुआरों की सुरक्षा हेतु ठोस उपाय करने का आह्वान किया। साथ ही समुद्र में मरनेवाले मछुआरों के परिजनों को उपयुक्त आर्थिक मदद एवं नौकरी आदि उपलब्ध कराने की भी उन्होंने मांग की।

जोसः नाईजिरिया में काथलिक गिरजाघर पर हुए आक्रमण में 21 मरे

In Church on March 14, 2012 at 10:46 am

जूलयट जेनेविव क्रिस्टफर

जोस, 13 मार्च सन् 2012 9 (ऊका): नाईजिरिया के जोस नगर में रविवार को दो काथलिक गिरजाघर पर हुए हमले तथा उसके बाद भड़की हिंसा में कम से कम 21 व्यक्तियों के प्राण चले गये हैं तथा कई घायल हो गये हैं।

प्लोटो प्रान्त के प्रवक्ता पेम आयुबा के अनुसार, जोस नगर में सेन्ट फिनबार को समर्पित काथलिक गिरजाघर के बाहर सुरक्षा कर्मियों द्वारा रुकाये जाने के बाद एक हमलावर ने आत्मघाती बम विस्फोट कर दिया। विस्फोट में गिरजाघर की छत क्षतिग्रस्त हुई तथा खिड़कियाँ टूट गई हैं। 11 व्यक्तियों की हत्या हो गई है तथा सुरक्षा कर्मियों सहित अनेक घायल हो गये हैं।

सेन्ट फिनबार काथलिक गिरजाघर पर हुए आत्मघाती हमले के तुरन्त बाद ख्रीस्तीयों का रोष भड़का जिन्होंने प्रतिशोध की कारर्वाई में कम से कम 10 अन्यों की हत्या कर दी। स्थिति पर काबू रखने के लिये पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा।

विगत कई वर्षों से नाईजिरिया के जोस तथा निकटवर्ती क्षेत्रों में ख्रीस्तीयों एवं मुसलमानों के बीच तनाव बने हुए हैं जो कभी कभी हिंसक हो उठते हैं। रूढ़िवादी मुसलमान संगठन क्षेत्र में शरिया लागू करना चाहते हैं जिसे ख्रीस्तीय धर्मानुयायी उनकी धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन मानते हैं।

कोचीः 230,000 से अधिक मछुआरों ने सुरक्षा की मांग करते हुए किया विरोध प्रदर्शन

स्वच्छ पेयजल एक मानवाधिकार

In Church on March 14, 2012 at 10:45 am

जूलयट जेनेविव क्रिस्टफर

वाटिकन सिटी, 13 मार्च सन् 2012 (सेदोक): वाटिकन ने अपने एक नये दस्तावेज़ में कहा है कि शुद्ध पेयजल, बाज़ार व्यापार की वस्तु न होकर, प्रत्येक मानव व्यक्ति का मूलभूत अधिकार है।

12 से 17 मार्च तक फ्राँस के मारसेल्स नगर में जल पर आयोजित छठवाँ विश्व मंच जारी है। इसी की पृष्टभूमि में, वाटिकन स्थित न्याय एवं शान्ति सम्बन्धी परमधर्मपीठीय समिति ने, “जल, जीवन का अनिवार्य तत्व”, शीर्षक से एक नया दस्तावेज़ लिखा है जिसकी एक प्रति, सोमवार, 12 मार्च को वाटिकन द्वारा प्रकाशित की गई।

वाटिकन के दस्तावेज़ में कहा गया है, “दुर्भाग्यवश, जल के बारे में व्यापारिक धारणा मज़बूत है जिसके चलते यह भ्रम उत्पन्न हो गया है कि जल भी किसी अन्य विक्रय वस्तु के ही समान है।” कहा गया कि इसी भ्रामक धारणा के कारण, जनकल्याण हेतु जल के मूल्य को नहीं आँका जाता तथा केवल लाभ की दृष्टि से जल संसाधनों में व्यय किया जाता है।

वाटिकन के दस्तावेज़ में कहा गया, “मानव की प्रतिष्ठा और उसके गरिमापूर्ण अस्तित्व को दरकिनार कर, मानव व्यक्तियों को केवल ग्राहकों के सदृश मान लिया जाता है और इसी वजह से जल एवं स्वच्छता को उपलब्ध कराई जाती है जो इनके दाम चुकाने में समर्थ होते हैं।”

फ्राँस में जारी बैठक में वाटिकन ने इस बात पर बल दिया है कि शुद्ध पेयजल एवं स्वच्छता के संसाधनों को सबके लिये उपलब्ध बनाने हेतु अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर दृढ़ संकल्प, सहयोग एवं सशक्तिकरण की नितान्त आवश्यकता है।

%d bloggers like this: