Vatican Radio HIndi

Archive for March 15th, 2012|Daily archive page

इताली इन्जीनियर के परिवार को सन्त पापा ने भेजा शोक सन्देश

In Church on March 15, 2012 at 11:39 am

जूलयट जेनेविव क्रिस्टफ़र

वाटिकन सिटी, 14 मार्च सन् 2012 (सेदोक): नाईजिरिया में मारे गये इताली इन्जीनियर के परिवार सदस्यों के प्रति गहन सहानुभूति का प्रदर्शन करते हुए, मंगलवार को सन्त पापा बेनेडिक्ट 16 वें ने एक तार सन्देश प्रेषित किया।

इताली इन्जीनियर फ्राँचेस्को लामोलीनारा का अपहरण, नाईजिरिया में, 12 मई सन् 2011 को कर लिया गया था। 08 मार्च को विदेशी बन्धकों की रिहाई के लिये ब्रिटेन के सैनिकों का अभियान विफल हो गया था जिसमें ब्रिटेन के डॉ. क्रिस्टफर मैकमानुस तथा इताली इन्जीनियर लामोलीनारा की हत्या हो गई थी।

13 मार्च को लामोलीनारा की अन्तयेष्टि के समय ही वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल तारचिसियो बेरतोने ने सन्त पापा की ओर से शोक सन्देश प्रेषित किया।

सन्देश में कार्डिनल महोदय ने लिखा कि सन्त पापा “लामोलीनारा के परिजनों के प्रति गहन सहानुभूति का प्रदर्शन करते तथा उनके शोक में शरीक होने का आश्वासन देते हैं।”

उन्होंने लिखा, “मृतकों की चिर शांति हेतु प्रभु ईश्वर से आर्त याचना करते हुए, लोगों के बीच शांतिपूर्ण अस्तित्व की स्थापना हेतु, सन्त पापा, इनजीनियर लामोलीनारा के उदार कार्यों का स्मरण करते तथा उनके लिये ईश्वर के प्रति आभार व्यक्त करते हैं।”

Advertisements

सन्त पापा चाहते हैं ख्रीस्तीय धर्म का पुनर्जागरण

In Church, Journey on March 15, 2012 at 6:47 am

Imageजूलयट जेनेविव क्रिस्टफर

हवाना, 14 मार्च सन् 2012 (रायटर): क्यूबा के काथलिक धर्माधिपति, कार्डिनल आयमे ओरतेगा ने कहा है कि सन्त पापा बेनेडिक्ट 16 वें क्यूबा में ख्रीस्तीय धर्म का पुनर्जागरण चाहते हैं।

26 से 28 मार्च तक क्यूबा में सन्त पापा बेनेडिक्ट 16 वें की आगामी प्रेरितिक यात्रा पर, मंगलवार को, राष्ट्रीय टेलेविज़न पर क्यूबा की जनता को आलोकित करते हुए कार्डिनल ओरतेगा ने कहा कि सन्त पापा क्यूबा के लोगों को उनके विश्वास में सुदृढ़ करना चाहते हैं।

क्यूबा की संरक्षिका एल कोब्रे की मरियम के तीर्थ के विषय में उन्होंने कहा कि इस तीर्थस्थल के प्रति लोगों में महान अभिरुचि है तथा अपनी यात्रा के समय सन्त पापा इसी तीर्थ से देश को अपना सन्देश देंगे।

उन्होंने कहा, “सन्त पापा उन देशों में विश्वास को पुनः जगाना चाहते हैं जिन्होंने ख्रीस्तीय धर्म के आरम्भिक काल में इसका आलिंगन किया था और अब जहाँ नवीन सुसमाचार प्रचार की आवश्यकता है।” Read the rest of this entry »

%d bloggers like this: