Vatican Radio HIndi

पियात्सा माचेओ में आयोजित ख्रीस्तयाग के दौरान संत पापा का प्रवचन

In Church, Journey on March 28, 2012 at 6:17 am

जोसेफ कमल बाड़ा

पियात्सा माचेओ सांतियागो दे क्यूबा 27 मार्च 2012 (सेदोक) संत पापा बेनेडिक्ट 16 वें ने 26 मार्च को सांतियागो दे क्यूबा के पियात्सा माचेओ में आयोजित समारोही ख्रीस्तयाग के दौरान प्रवचन करते हुए कहा कि वे ईश्वर को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने उन्हें यहाँ आने तथा बहुप्रतीक्षित यात्रा को सम्पन्न करने की अनुमति प्रदान की।

संत पापा ने कहा कि इस देश की प्रेरितिक यात्रा करते समय यह पहला ख्रीस्तयाग अर्पित करते हुए उन्हें खुशी है जो इस भूमि में मरियम प्रतिमा की खोज की 400 वीं वर्षगाँठ के अवसर पर क्यूबा की संरक्षिका अवर लेडी ओफ चारिटी ऑफ एल कोब्रे के सम्मान में मरियम जुबिली के तहत अर्पित की जा रही है। वे जुबिली की तैयारी, विशेष रूप से आध्यात्मिक तैयारी के लिए किये गये बलिदान और समर्पण को नहीं भूल सकते हैं।

इस द्वीप के हर भाग में मरिया प्रतिमा ले जायी गयी और जिस तत्परता से लोगों ने इसका स्वागत किया गया इसने उनके दिल को गहरे रूप से स्पर्श किया है।

क्यूबा के चर्च में इन महत्वपूर्ण घटनाओं का विशेष आकर्षण है क्योंकि आज पूरे विश्व में स्वर्गदूत गाब्रियल द्वारा कुँवारी माता मरियम को प्रभु के जन्म का संदेश दिये जाने का पर्व मनाया गया।

संत पापा ने कहा कि ईशपुत्र का देहधारण करना ईसाई विश्वास का केन्द्रीय रहस्य है और इसमें मरियम को केन्द्रीय स्थान प्राप्त है।

देहधारण के रहस्य पर मनन चिंतन करते हुए हम आश्चर्य कृतज्ञता और प्रेम भाव से भर जाते हैं कि इस दुनिया में आते हुए ईश्वर चाहते हैं कि अपनी एक सृष्टि की स्वतंत्र स्वीकृति पर निर्भर हों। स्वर्गदूत को कुँवारी द्वारा यह जवाब दिये जाने के क्षण से ही देखिए मैं प्रभु की दासी हूँ आपक कथन मुझ में पूरा हो जाये।

पिता ईश्वर के अनन्त शब्द ने मानवीय अस्तित्व धारण किया। यह देखना ह्दय को स्पर्श करता है कि ईश्वर न केवल मानव की स्वतंत्रता का सम्मान करते हैं लेकिन ऐसा प्रतीत होता है कि उन्हें मानव की जरूरत है। और ईशपुत्र का पार्थिव जीवन के आरम्भ होने में पिता ईश्वर की मुक्तिदायी योजना में ख्रीस्त और मरिया की स्वीकृति है। ईश्वर के प्रति यह आज्ञाकारिता ही दुनिया के द्वार को सत्य और मुक्ति के लिए खोलती है।

संत पापा ने कहा कि ख्रीस्त के रहस्य में अपनी अद्वितीय भूमिका के द्वारा कुँवारी माता मरियम कलीसिया के लिए माडल और उदाहरण को प्रस्तुत करती है। वे जानते हैं कि क्यूबावासी प्रतिदिन बहुत मेहनत, साहस और आत्म बलिदान द्वारा देश की ठोस परिस्थितियों में काम करते हैं और इतिहास के इस क्षण में कलीसिया अपना सही चेहरा बेहतर तरीके से प्रस्तुत करेगी जो मानवजाति को ईश्वर के समीप लाती है।

संत पापा ने कहा कि इस दुनिया में ईश वचन का प्रसार करने तथा येसु के शरीर द्वारा प्रत्येक जन को पोषण प्रदान करके लिए वे सबको प्रोत्साहन देते हैं।

पास्का पर्व समीप आ रहा है, बिना किसी डर या संदेह के येसु के क्रूस पथ पर चलने के लिए हम मनसूबा बांधें। धैर्य और विश्वासपूर्वक हर विरोध का सामना करें। प्रभु लोगों के उदारतापूर्ण समर्पण के लिए बहुत फल प्रदान करेंगे।

संत पापा ने कहा कि देहधारण का रहस्य जिसमें ईश्वर हमें अपने समीप लाते हैं और हमें हर मानव जीवन की अतुलनीय प्रतिष्ठा को दिखाते हैं।

उन्होंने सृष्टि के आरम्भ से ही विवाह पर आधारित मानव परिवार को समाज की बुनियादी ईकाई और यथार्थ घरेलू चर्च बनने का मिशन सौंपा है। वे दम्पतियो से कलीसिया के लिए ख्रीस्त के प्यार का सच्चा और प्रत्यक्ष चिह्न बनने का आह्वान करते हैं।

क्यूबा को आपकी निष्ठा, एकता और मानव जीवन का स्वागत करने की क्षमता का साक्ष्य की जरूरत है।

संत पापा ने कहा कि अवर लेडी ऑफ चारिटी ऑफ एल कोब्रे की दृष्टि में अपने विश्वास को नवीकृत करने की वे विश्वासियों से अपील करते हैं ताकि वे ख्रीस्त में और ख्रीस्त के लिए जीवन जीयें, शांति, क्षमा और समझदारी के साथ नवीन और खुला समाज बनाने का प्रयास करें जो ईश्वर की भलाई को बेहतर तरीके से प्रतिबिम्बित करता है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: