Vatican Radio HIndi

एक्सपो अनुदान से कारितास जॉर्डन की शरणार्थी परियोजना की सहायता

In Church on May 11, 2016 at 2:00 pm

वाटिकन सिटी, बुधवार, 11 मई 2016 (सेदोक): जॉर्डन में शरण ले रहे ईराकी शरणार्थियों को नौकरियाँ उपलब्ध कराने के लिये आरम्भ एक नई परियोजना का उदघाटन 12 मई को राजधानी अम्मान में किया जा रहा है। इस परियोजना का उदघाटन काथलिक कलीसिया के कल्याणकारी कार्यों का समन्वयन करनेवाली परमधर्मपीठीय समिति “कोर ऊनुम” के उपसचिव मान्यवर सेगुन्दो मुनोज़ करेंगे।

मंगलवार को उक्त परमधर्मपीठीय समिति ने प्रकाशित किया कि ईराकी शरणारियों को काम देने वाली इस नई परियोजना की सहायता, इटली के मिलान शहर में विगत वर्ष मई से अक्टूबर तक सम्पन्न, एक्सपो प्रदर्शनी के दौरान परमधर्मपीठीय मण्डप द्वारा जमा की गई राशि से की जायेगी।

सन्त पापा फ्राँसिस ने स्वयं निवेदन किया है कि एक्सपो में एकत्र किये गये धन से डेढ़ लाख डॉलर ईराकी शरणार्थियों एवं विस्थापितों की मदद के लिये जॉर्डन को दिये जायें।

शरणार्थियों को नौकरियाँ दिलवाने तथा उन्हें अन्य प्राथमिक आवश्यकताएँ उपलब्ध कराने का काम  विश्वव्यापी काथलिक उदारता संगठन कारितास की जॉर्डन शाखा के सिपुर्द किया गया है जो 15 शरणार्थी परिवारों को तेल एवं वनस्पति के उत्पादन एवं भण्डारन क्षेत्र में नौकरियाँ प्रदान करेगी। इनके अतिरिक्त, जॉर्डन में शरण पा रहे 200 अन्य शरणार्थियों को बढ़ई, कृषि तथा खाद्य तकनीकी में व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा तथा 500 शरणार्थियों को एक वर्ष के लिये अस्थायी नौकरियाँ उपलब्ध कराई जायेंगी।

परमधर्मपीठीय समिति “कोर ऊनुम” ने प्रकाशित किया कि सिरिया तथा ईराक में युद्ध पीड़ितों की मदद हेतु सन्त पापा फ्राँसिस के आह्वान के प्रत्युत्तर में इस परियोजना को  आरम्भ किया गया है।

जॉर्डन में इस समय 130,000 ईराकी शरणार्थी तथा 13 लाख से अधिक सिरियाई शरणार्थी शरण पा रहे हैं।


(Juliet Genevive Christopher)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: