Vatican Radio HIndi

Archive for the ‘Church Document’ Category

वाटिकन सिटी: भारत एवं पाकिस्तान में धर्माध्यक्षों की नियुक्तियाँ

In Church, Church Document on July 4, 2013 at 12:24 pm

उषा मनोरमा तिर्की, डी.एस.ए

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 4 जुलाई 2013 (सेदोक): संत पापा फ्राँसिस ने बुधवार, 3 जुलाई को, फादर जोसेफ अर्सद को पाकिस्तान के फैसलाबाद धर्मप्रांत का नया धर्माध्यक्ष नियुक्त किया
फादर जोसेफ अर्सद इस समय बोस्निया एवं हेरजेगोविना के प्रेरितिक राजदूत के सलाहकार हैं। उनका जन्म 25 अगस्त सन् 1964 ई. को लाहौर में हुआ था। अपनी स्कूली शिक्षा समाप्त करने के पश्चात् पुरोहितीय प्रशिक्षण हेतु उन्होंने लाहौर स्थित संत मरिया को समर्पित माइनर सेमिनरी में प्रवेश किया तथा ईशशास्त्र की पढ़ाई ख्रीस्त राजा सेमिनरी कराची से पूरी की।

फादर जोसेफ अर्सद का पुरोहित अभिषेक 1 नवम्बर सन् 1991 ई. को हुआ, उसके बाद उन्हें संत जोसेफ को समर्पित स्थानीय कलीसिया के पल्ली पुरोहित तथा कमोली गुजरानवाला स्थित संत पेत्रुस स्कूल का निर्देशक नियुक्त किया गया था।

सन् 1995 ई. को कलीसियाई कानून की पढ़ाई के लिए वे परमधर्मपीठीय अर्बन विश्वविद्यालय रोम गये। सन् 1999 में पढ़ाई समाप्त करने के बाद, उन्होंने माल्टा के परमधर्मपीठीय राजदूतावास में सन् 2002 ई. तक सेवा अर्पित की। उसके बाद सन् 2010 ई. तक क्रमशः श्रीलंका, बंगलादेश मदागास्कर एवं बोस्निया हर्जेगोविना में वे प्रेरितिक राजदूतावास में सेवा देते रहे।
फैसलाबाद धर्मप्रांत, लाहौर महाधर्मप्रांत के अंर्तगत आता है, जो महाधर्माध्यक्ष जोसेफ कूट्स के कराची महाधर्मप्रांत में स्थानांतरण के बाद सन् 2012 से ही रिक्त था।
फैसलाबाद धर्मप्रांत 35,300 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला है एवं वहाँ के लोगों की जनसंख्या 38,265,000 है जिसमें काथलिकों की संख्या 150,000 है।

संत पापा फ्राँसिस ने 3 जुलाई को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर महाधर्मप्रांत के लिए धर्माध्यक्ष हेनरी ठाकुर को भी नियुक्त किया। रायपुर धर्मप्रांत की स्थापना सन् 1973 ई. में हुई तथा यह सन् 2004 में महाधर्मप्रांत बना। यह 60,819 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में फैला है तथा लोगों की जनसंख्या 15 लाख है जिसमें काथलिकों की संख्या करीब 49 हजार हैं।

सैकड़ों लोगों की गवाही पोप जोन पौल द्वितीय ने उनके जीवन को बदला, बचाया

In Audience, Church, Church Document, Dialogue, Journey, News, Peace & Justice, Uncategorized, Unity, VR Hindi e-Samachar, Youth on April 29, 2011 at 11:56 pm
संत पापा जोन पौल की कब्र के पास विनती करती हुई धर्मबहनें

जोसेफ कमल बाड़ा

 वाटिकन सिटी, 29 अप्रैल, 2011 (सीएनएस ) सैकड़ों लोग सार्वजनिक रूप से गवाही दे रहे हैं कि पोप जोन पौल द्वितीय ने उनके जीवन को बदल दिया है या उनके जीवन को बचाया है। विभिन्न आयु वर्ग तथा देशों के लोगों ने अपना साक्ष्य वेबसाईट http://www.karol-wojtyla.org को भेजा है।

इस बेवसाइट का संचालन रोम धर्मप्रांत द्वारा किया जाता है जो स्वर्गीय संत पापा की धन्य और संत घोषणा प्रकरण के लिए समर्पित है। 28 अप्रैल तक विभिन्न भाषाओं वाली इस साईट में 400 से अधिक लोगों के साक्ष्यों को प्रकाशित किया गया है कि संत पापा जोन पौल द्वितीय की मध्यस्थता से उनकी प्रार्थनाएं पूरी हुई या वे कलीसिया में वापस आये हैं।

अनेक लोगों ने अपने साक्ष्यों में संत पापा जोन पौल द्वितीय की मध्यस्थता से प्रार्थनाओं या निवेदनों के पूरा होने, जटिल सर्जरी सफलतापूर्वक सम्पन्न होने या पारिवारिक कठिनाईयों का समाधान होने के लिए धन्यवाद व्यक्त किया है।

पोप की विभिन्न प्रेरितिक यात्राओं के समय उनसे मुलाकात होने या उन्हें देखने से मिले अनुभवों के बारे में अनेक लोगों ने कहा कि उन्होंने पवित्र और करिश्माई व्यक्ति की उपस्थिति का अनुभव पाया।

1 मई को सम्पन्न होनेवाले पोप जोन पौल द्वितीय की धन्य घोषणा समारोह के लिए रोम शहर और वाटिकन परिसर में व्यापक और भव्य तैयारी की

%d bloggers like this: