Vatican Radio HIndi

नागरिकता या अधिकार के बिना सीरियाई शरणार्थी बच्चे

In Church on December 20, 2014 at 2:44 pm

बेरट, शनिवार, 20 दिसम्बर 2014 (एशियान्यूज़)꞉ सीरिया के करीब 30,000 बच्चे जिनका जन्म लेबनान के शरणार्थी शिविर में हुआ है, किसी भी देश में पंजीकृत नहीं होने के कारण उन्हें किसी देश की नागरिकता प्राप्त नहीं है जिसके कारण उनमें बुनियादी अधिकारों से वंचित होने की समस्या दिखाई पड़ रही है।

अंतरराष्ट्रीय ग़ैरसरकारी संस्थाओं तथा संयुक्त राष्ट्रसंघ के बाल सुरक्षा विभाग (यूनिसेफ) ने चेतावनी दी है कि मध्यपूर्व के देशों में ऐसे बच्चों की संख्या बढ़कर 33 लाख हो गयी है।

यह ग़ौर किया जा रहा है कि बिना पंजीकरण के बच्चों को किसी भी देश की नागरिकता प्राप्त नहीं है। किसी देश की नागरिकता प्राप्त नहीं होने तथा कोई भी दस्तावेज नहीं रहने के कारण वे बुनियादी अधिकारों से वंचित हो जायेंगे।

जानकारों का कहना है कि बिना जन्म प्रमाण पत्र, पहचान पत्र या अन्य दस्तावेजों के बुनियादी आवश्यकताओं जैसे, विवाह, शिक्षा-दीक्षा, नौकरी आदि की सुविधा नहीं मिल पायेगी।

इस समस्या के मद्देनजर संयुक्त राष्ट्रसंघ ने दस वर्षों में विश्व भर के अनुमानतः 10 लाख बच्चों की ग़ैर-नागरिकता समाप्त करने के लिए पिछले महीने एक प्रमुख अभियान का शुभारंभ किया।
सीरिया में संघर्ष एक बड़ी समस्या है जिसे बचने के लिए करीब 3 लाख लोग पड़ोसी देशों में भागकर शरण ले रखी है।

72 हजार बच्चों में से लगभग 70 प्रतिशत सीरियाई बच्चों को जन्म शरणार्थी शिविरों में हुआ है जिसके कारण उनका पंजीकरण नहीं हो पाया है।

Usha Tirkey

चरनी तथा क्रिसमस ट्री का उद्घाटन

In Church on December 20, 2014 at 2:43 pm

वाटिकन सिटी, शनिवार, 20 दिसम्बर 2014 (वीआर अंग्रेजी)꞉ संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में स्थापित चरनी तथा क्रिसमस ट्री के उद्घाटन के साथ पूरा प्रांगण प्रकाश से जगमगा उठा।

शुक्रवार 19 दिसम्बर की संध्या को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में एक भव्य दृश्य दिखाई दिया। ख्रीस्त जयन्ती के उपलक्ष में संत पापा को अर्पित चरनी तथा क्रिसमस ट्री के उद्घाटन के साथ एलईडी प्रकाश व्यवस्था चालू कर दी गयी।

इस अवसर पर हज़ारों तीर्थयात्रियों ने समारोह में हिस्सा लिया।
वाटिकन सिटी प्रशासक कार्डिनल जुसेप्पे बेरतेल्लो ने जानकारी देते हुए कहा कि प्रांगण में करीब 340 छोटे दीये तथा पर्याप्त संख्या में बड़ी बत्तियाँ बसिलीका तथा प्राँगण के विभिन्न हिस्सों में सजायी गयी हैं।

उन्होंने कहा, ″प्रेम एवं शांति का संदेश जो हमें येसु पर मनन चिंतन करने हेतु प्रेरित कर रहा है वे हमारे बीच रहें तथा हमारे हृदयों को प्रज्वलित करें जिससे कि हम भी अपने जीवन के अच्छे उदाहरणों द्वारा अन्यों के लिए प्रकाश बन सकें।″

ज्ञात हो कि संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में स्थापित सुन्दर चरनी वेरोना द्वारा तथा 25 मीटर ऊँचे देवदार की क्रिसमस ट्री कतनज़ारो के विश्वासियों द्वारा संत पापा को भेंट की गयी है।

Usha Tirkey

जीवन का केंद्र

In Church on December 20, 2014 at 2:42 pm

वाटिकन सिटी, शनिवार, 20 दिसम्बर 2014 (वीआर सेदोक)꞉ संत पापा फ्राँसिस ने शनिवार 20 दिसम्बर को एक ट्वीट संदेश प्रेषित कर येसु को अपने जीवन का केंद्र बनाने की सलाह दी।

उन्होंने संदेश में लिखा, ″यदि येसु को अपने जीवन का केंद्र बनाना है तो हमें पवित्र साक्रमेंत के सम्मुख उनकी उपस्थिति में समय बिताने की आवश्यकता है।″

Usha Tirkey

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 68 other followers

%d bloggers like this: